Home - हिन्दी - Webduniya हिन्दी - एक जिंदगी की शहादत को चार दिन भी सहेज न सकें तो हम क्या भारतवासी?

एक जिंदगी की शहादत को चार दिन भी सहेज न सकें तो हम क्या भारतवासी?


14 February 2020 04:44

देश के 1 अरब 32 करोड़ लोगों की सुरक्षा में दी गई शहादत की उम्र घटकर बस कुछ पल, कुछ लम्हें या ज्यादा से ज्यादा 1 दिन ही रह गई है।.
एक जिंदगी की शहादत को चार दिन भी सहेज न सकें तो हम क्या भारतवासी?. This article is published at 14 February 2020 04:44 from Webduniya Hindi News portal, click on the read full article link below to see further details.


Read Full Article on Webduniya हिन्दी >>

Tags : जिंदगी, शहादत, सहेज, सकें, क्या, भारतवासी


Share